journalist, Durg Singh Rajpurohit, arrest, bihar police, st-sc act, journalist organization, movenment, release
journalist, Durg Singh Rajpurohit, arrest, bihar police, st-sc act, journalist organization, movenment, release

पत्रकार दुर्ग सिंह राजपुरोहित की रिहाई के लिए समाज-पत्रकार संगठन आगे आए
जयपुर। एसटी-एससी एक्ट के झूठे केस में फंसाकर अवैध तरीके से राजस्थान के बाड़मेर जिले के वरिष्ठ पत्रकार दुर्ग सिंह राजपुरोहित की गिरफ्तारी के विरोध में पत्रकार और सामाजिक संगठन सड़क पर उतरने लगे हैं। दुर्ग सिंह राजपुरोहित की रिहाई और दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर पत्रकार संगठनों व राजपुरोहित समाज के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, गवर्नर कल्याण सिंह व एडीजी क्राइम से मिलकर ज्ञापन दिए हैं।

बाड़मेर में पत्रकार दुर्ग सिंह की गिरफ्तारी के विरोध में सर्व समाज की ओर से रैली निकाली गई, जिसमें एक राजनेता पर दुर्ग सिंह की अवैध गिरफ्तारी में लिप्त होने के आरोप लगाए हैं। लोगों ने जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर चेतावनी दी है कि एसटी-एससी एक्ट के झूठे मुकदमे में दोषी पुलिसकर्मियों व अफसरों पर कार्रवाई नहीं की गई तो बड़ा आंदोलन शुरु होगा। उधर, जयपुर में भी राजपुरोहित समाज राजस्थान ने इस गिरफ्तारी के विरोध में सड़क पर उतर आए है। जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देकर चेताया है कि अगर सरकार ने दोषी अफसरों व पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई नहीं की तो इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

कई पत्रकारों संगठनों ने भी राजस्थान और बिहार सरकार को ज्ञापन देकर दुर्ग सिंह की रिहाई करवाने और उसे सुरक्षा उपलब्ध करवाने की मांग की है। हिन्दुस्तान मीडिया टÓस्ट के पत्रकार सदस्य गवर्नर कल्याण सिंह गुरुवार को राजभवन में मुलाकात करेंगे और दुर्ग सिंह राजपुरोहित की रिहाई की मांग करेंगे। गौरतलब है कि बिहार में राकेश पासवान की ओर से एक झूठा केस दर्ज किया है, जिसमें कहा है कि बाड़मेर के पत्रकार दुर्ग सिंह राजपुरोहित ने बिहार में उसके घर आकर मारपीट की और जातिसूचक शब्दों से अपमानित किया है।

इस एफआईआर की बिना जांच-पड़ताल करके ही बिहार पुलिस की सोशल मीडिया पर आई सूचना के आधार पर बाड़मेर पुलिस ने दुर्ग सिंह को अवैध हिरासत में ले लिया और फिर तीन पुलिसकर्मियों के साथ उसे बिहार छोड़कर आए। परिवादी राकेश पासवान से जब मीडिया ने बातचीत की तो उसने दुर्ग सिंह को पहचानने से इनकार कर दिया, साथ ही यह भी कहा कि वह कभी बाड़मेर गया ही नहीं और ना ही उसने कोई पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई है। दुर्ग सिंह ने भी बयान दिया है कि वे कभी बिहार गए ही नहीं। मुझे झूठे केस में फंसाकर अवैध दरीके से गिरफ्तार किया गया है।

कोई जवाब दें