Child

जयपुर। राजस्थान के अलवर में भारत बंद के दौरान फायरिंग में मरे पवन कुमार का शव परिजन नहीं ले रहे हैं। वे पवन की मौत की जांच कर रहे हैं और मुआवजा के लिए अड़े हुए हैं। पुलिस और जिला प्रशासन परिजनों व दूसरे लोगों को समझाइश में लगा है। हालांकि दो स्तर की वार्ता के दौरान कोई रिजल्ट नहीं आया है। कलेक्ट्री सर्किल अलवर के बाहर मुआवजा और जांच की मांग को लेकर लोग धरने पर बैठे हुए।

जिला कलक्टर, एसपी व अन्य आला अफसर पवन के परिजनों को पोस्टमार्टम करवाने और अंतिम संस्कार के लिए समझाइश कर रहे हैं। लेकिन परिजन शव लेने को तैयार नहीं हो रहे हैं। वे मांग कर रहे हैं कि फायरिंग में मरे पवन की मौत की निष्पक्ष जांच करवाई जाए। फायरिंग के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। पवन के परिजनों के उचित मुआवजा दिया जाए।

अंतिम संस्कार के लिए प्रशासन समझाइश में लगा है। समाज के प्रबुद्ध लोगों को भी कहा गया है कि वे समझाइश करके पोस्टमार्टम करवाए। वे मामले की निष्पक्ष जांच करवाएंगे। हालांकि अभी तक सहमति नहीं बनी है।

कोई जवाब दें