Daty Maharaj misdemeanor case transferred to CBI

जयपुर। शिष्या से दुष्कर्म केस मामले में फंसे शनिधाम मंदिर के महंत दाती उर्फ मदन महाराज पर कानूनी शिकंजा कसता जा रहा है। हालांकि यह शिकंजा पुलिस के बजाय कोर्ट कस रही है। दुष्कर्म केस को दर्ज हुए एक महीने होने के बावजूद दिल्ली क्राइम ब्रांच की ओर से अनुसंधान पूरा नहीं करने और दाती महाराज व अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने पर कोर्ट ने तल्ख रुख अपनाते हुए शुक्रवार को कड़ी फटकार लगाई है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली क्राइम ब्रांच के अफसरों को फटकार लगाते हुए कहा, पुलिस उत्पीड़न और शोषण में फर्क नहीं कर पा रही है। ना तो अनुसंधान पूरा किया और ना ही आरोपियों की गिरफ्तारी। हाईकोर्ट के फटकार के दौरान पुलिस अफसर चुप्पी साधे खड़े रहे। उन्हें कुछ बोलते नहीं बना। कोर्ट ने फटकार लगाते हुए मामले में त्वरित अनुसंधान के निर्देश दिए है। उधर, पीडिता ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस दाती महाराज व अन्य आरोपियों के प्रति कोई एक्शन नहीं ले रही है। पुलिस दाती महाराज के प्रति सहानुभूति रखे हुए है। गौरतलब है कि रेप केस दर्ज होने के बाद दिल्ली पुलिस आधा दर्जन बार दाती महाराज, उनके भाईयों व सेवादारों से पूछताछ कर चुकी हैे। रेप स्थल शनिधाम मंदिर व पाली स्थित आलावास आश्रम का मौका मुआयना कर चुकी है।

कोई जवाब दें