Bribe-trap-case

जयपुर। प्रदेश में नîसग कॉलेजों की मान्यता देने के बदले घूस लेने के मामले में शुक्रवार को एसीबी ने अदालत में रिपोर्ट पेश कर कोर्ट को बताया कि परिवाद को नस्तीबद्ध कर दिया गया है। इस पर परिवादी के एडवोकेट राजेन्द्र सिंह श्ोखावत ने कडी आपत्ति करते हुए कोर्ट को बताया कि आरोपियों के प्रभावशाली होने के कारण बिना कोई अनुसंधान किये परिवाद को एक तरह से दाखिल दफ्तर कर दिया।

गत पेशी 14 मई को पेश की गई रिपोर्ट में एसीबी ने कोर्ट को बताया था कि परिवाद 89/2०18 दर्ज कर लिया गया है, जो सत्यापनाधीन है। जांच जयपुर द्बितीय में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को दी गई है। 1० दिन में ही परिवाद को नस्तीबद्ध करना बता रहे है। बाद में स्पेशल जज बलजीत सिह ने जांच अधिकारी को 22 जून को तलब करते हुए जांच की प्रगति रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए। इस संबंध में शंकर लाल गुर्जर ने 17 मार्च को कोर्ट में परिवाद पेश कर विवेक सराफ, अजय असवाल, गोविन्द शर्मा, शिवपाल यादव सहित अन्य पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया गया है।

कोई जवाब दें