rss ghosh vahini

jaipur.छबड़ा विधायक और पूर्व मंत्री प्रताप सिंह सिंघवी ने बुधवार को कहा कि शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को लेकर दिया बयान अपमानजनक होने से बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। आजादी के आंदोलन में संघ की गहरी भूमिका रही है, जिसका सुदीर्घ इतिहास है। 1905 में हुए बंग-भंग आंदोलन के दौरान डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार ने ‘विद्यार्थी समाज’ नामक संस्था बनाकर युवाओं को आंदोलन से जोड़ा। ‘वन्दे मातरम्’ बोलने को उन्होंने आंदोलन की जैसे स्थापित कर देश को आजाद करवाने का माहौल बनाया।

अनेक बार जेल यात्रा के बाद डॉ. हेडगेवार ने 1930 में देश भर की शाखाओं पर 26 जनवरी, 1930 को स्वतंत्रता दिवस मनाया। 1930 में उन्होंने ‘जंगल सत्याग्रह’ किया। अनेक आंदोलनों से आजादी की धारा मजबूत करने वाले संघ की प्रशंसा में पहले भारतरत्न डॉ. भगवानदास ने 16 अक्टूबर 1948 को उसे देश को बचाने में कर्तव्यनिष्ठ संगठन के रूप में माना। शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को अपने बयान पर माफी मांगते हुए अपनी गलती स्वीकार करनी चाहिए, जिससे एक राष्ट्रभक्त संगठन के बारे में लोगों में भ्रम न फैले।

कोई जवाब दें