Fraud Case

रायपुर: स्थानीय अदालत ने मंत्री की कथित अश्लील सीडी मामले में गिरफ्तार पत्रकार विनोद वर्मा की जमानत याचिका आज खारिज कर दी। आरोपी के अधिवक्ता फैजल रिजवी ने संवाददाताओं को बताया कि न्यायिक मजिस्ट्रेट भावेश कुमार वटटी की अदालत ने वर्मा की जमानत याचिका खारिज कर दी है। रिजवी ने बताया कि वर्मा की जमानत याचिका पर आज अदालत में सुनवाई हुई और दोनों पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने इसे खारिज कर दिया।

उन्होंने बताया कि अदालत में वर्मा के पक्ष में दलीलें दी गयी और कुछ साक्ष्य प्रस्तुत किये गये। लेकिन अदालत ने इसे गंभीर प्रकृति का प्रकरण मानते हुए जमानत देने से इंकार कर दिया। रिजवी ने बताया कि गाजियाबाद के आसपास की वीडियो फुटेज की प्रति अदालत के सामने पेश की गयी। उन्होने यह भी कहा कि जिस डिब्बे में पुलिस ने सीडी होने का दावा किया है, वह सील बंद नहीं था।

उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में प्रार्थी को किसने धमकी दी, किस फोन नंबर से धमकी दी, कितनी रकम मांगी गई और उसने क्या रकम दी इन सब पर प्रश्न चिन्ह लगा हुआ है। इससे भयादोहन की परिभाषा पूरी नहीं हो रही है। रिजवी ने बताया कि अब वह सत्र न्यायालय में जमानत की अर्जी देंगे। इधर, विशेष लोक अभियोजक सुरेश प्रसाद शर्मा ने बताया कि उन्होंने अदालत में वर्मा की जमानत अर्जी का विरोध किया और कहा कि जमानत मिलने पर आरोपी साक्ष्य और गवाहों को प्रभावित कर सकता है।

पत्रकार वर्मा अभी न्यायिक हिरासत में जेल में है। अदालत ने वर्मा को इस महीने की 13 तारीख तक न्यायिक हिरासत में भेजा था। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने पत्रकार विनोद वर्मा को 27 अक्तूबर को उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद से गिरफ्तार किया था। पुलिस के मुताबिक वर्मा से पांच सौ की संख्या में अश्लील सीडी, पेन ड्राईव, लैपटाप, डायरी और अन्य सामान बरामद किया गया था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि वर्मा को रायपुर के पंडरी थाने में दर्ज प्रकाश बजाज की रिपोर्ट की तहकीकात के दौरान गिरफ्तार किया गया था। बजाज ने थाने में मामला दर्ज कराया है कि एक व्यक्ति ने उसे धमकी दी है कि उसके आका की अश्लील सीडी उसके पास है तथा उसका कहा नहीं मानने पर वह इसे सार्वजनिक कर देगा।

वर्मा की गिरफ्तारी के बाद राज्य के लोक निर्माण विभाग के मंत्री राजेश मूणत की ​कथित अश्लील सीडी सार्वजनिक हो गई। मूणत ने इस मामले में यहां ​के सिविल लाईंस थाने में वर्मा और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। मूणत ने इस वीडियो को फर्जी बताया है। इधर, राज्य सरकार ने मंत्री के कथित अश्लील सीडी मामले की जांच सीबीआई से कराने की अनुशंसा की है।

कोई जवाब दें