नई दिल्ली। प्रचंड गर्मी का दौर झेल चुके देश के अनेक इलाकों में प्री-मानसून बारिश शुरू हो चुकी है। वहीं अब देश के पूर्वी इलाके में उठे चक्रवाती तूफान ‘मोरा’ ने लोगों की धड़कनों को तेज कर दिया है। इस संबंध में मौसम विभाग ने चेतावनी जारी कर दी है। जिस लिहाज से बंगाल की खाड़ी में हवाएं पूरे वेग से चल रही है, उसको देखते हुए मौसम विभाग ने तूफान की आशंका जता दी है। साथ ही मछुआरों को समुंद्र में जाने से मना कर दिया है। ”मोरा’ तूफान से पूर्वी भारत के अधिकतर इलाकों में आगामी 48 घंटों में जबरदस्त बारिश होने के आसार है। विशेषकर त्रिपुरा, मिजोरम, नागालैंड, मणिपुर व अरुणाचल प्रदेश में भारी बरसात की आशंका जताई गई है। पूर्वी भारत में तूफान की आहट के बीच मौसम विभाग ने स्पष्ट किया कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का जो क्षेत्र बना है, उसके कारण दक्षिण पश्चिम मानसून को आगे बढऩे में मदद मिलेगी। संभवत: सोमवार की रात्रि तक यह एक कम दबाव का क्षेत्र एक चक्रवाती तूफान में बदल जाए। इधर बिहार में तेज अंधड़ का व्यापक प्रकोप सामने आया। रविवार को बिहार के अधिकांश जिलों में तेज बरसात व हवाओं के चलते 23 लोगों की मौत हो गई। मृतकों में महिलाएं व बच्चे भी शामिल है। सबसे अधिक मौतें तो पूर्वी चंपारण में सामने आई। जहां पांच लोग वज्रपात के कारण मारे गए।

-जनप्रहरी की ताजातरीन खबरों के लिए लाइक करें।

कोई जवाब दें