जयपुर। कांग्रेस द्वारा देश की सुरक्षा को ताक पर रखकर राफेल विमान जैसे महत्वपूर्ण सौदे पर अपने राजनितिक हितो को साधने के लिए केन्द्र सरकार पर तथ्यहीन, बेबुनियाद, निराधार प्रश्न खड़ा करके उसे दुष्प्रचारित कर देश की जनता को गुमराह करने का कार्य किया गया है। राफेल सौदे पर माननीय सर्वोच्चय न्यायालय मे चार याचिकाएं दाखिल की गई। इन याचिकाओं मे निर्णय प्रक्रिया, कीमत तथा आफसेट पार्टनर को लेकर तीन विषय प्रमुखता से उठाए गए थे। गत 14 दिसम्बर 2018 को माननीय सर्वोच्चय न्यायालय ने सभी याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान इस पूरी प्रक्रिया को पारदर्शी एवं नियमों के अनुरूप पाया है।

न्यायालय ने सभी याचिकाओं को खारीज करते हुए यह भी स्पष्ट किया की इस समझोते पर किसी भी प्रकार का कोई संदेह करने का ठोस आधार नजर नही आता। शहर भाजपा के अध्यक्ष संजय जैन ने कहा कि वर्ष 2001 मे लडाकू विमान खरीदने का विषय आया था। जिसे कांग्रेस नीत यूपीए सरकार के कार्यकाल मे देश की सुरक्षा से जुड़े इस मामले को अधर मे लटकाएं रखा। जिसे नरेन्द्र जी मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार ने सकारात्मक पहल और पारर्दशी तरीके से प्रक्रिया को पूरा किया है। लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण है की सेना की महत्वपूर्ण जरूरत को हीला-हवाली करके लटकाने वाली कांग्रेस और इसके अध्यक्ष राहुल गांधी इस पर बेबुनियाद दुष्प्रचार कर रहे है।

इस पूरे मामले मे राहुल गांधी का देश की सुरक्षा के प्रति आचारण अत्यन्त ही असवेदनशील एवं देशहित के खिलाफ रहा है। न्यायालय के निर्णय के बाद राफेल के मुद्दे पर राहुल गांधी द्वारा बोला गया झूठ उजागर हुआ है तथा सच्चाई देश की जनता के सामने आई है। देश की सुरक्षा से खिलवाड़ करने तथा भारत की अन्तर्राष्ट्रीय साख से समझोता कर जनता से बोले गए इस गम्भीर झूठ के लिए राहुल गांधी को लोक सेवक के पद से मुक्त करने की मांग को लेकर शहर व देहात भारतीय जनता पार्टी द्वारा कल 19 दिसम्बर को प्रातः 11ः00 बजे कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया जावेगा। प्रदर्शन मे पार्टी के नेता, विधायक, पार्षद व पार्टी पदाधिकारियों सहित सभी कार्यकर्ता बड़ी संख्या मे शामील होंगे।

कोई जवाब दें