rajasthan gaurav yatra, Congress Government, ignored, hartal,cm Vasundhara Raje
rajasthan gaurav yatra, Congress Government, ignored, hartal,cm Vasundhara Raje

जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि कांग्रेस के लिए राजस्थान हाड़ौती की सीमा पर ही खत्म हो जाता है। जब-जब भी कांग्रेस की सरकारें आई कांग्रेस ने हाड़ौती क्षेत्र की उपेक्षा की। हाड़ौती से मेरा 30 साल का मजबूत रिश्ता है। इस अवधि में मैंने कई उतार-चढ़ाव देखे हैं, लेकिन यहां के लोग ढाल बनकर हमेशा मेरे साथ खड़े रहे। श्रीमती राजे झालावाड़ जिले के डग तथा कोटा के रामगंजमंडी कस्बे में आयोजित सभाओं को सम्बोधित कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि हमने केवल चुनाव तक ही भाजपा और कांग्रेस की लड़ाई लड़ी थी। चुनाव जीतने के बाद हमने प्रदेश की सभी 36 की 36 कौम को गले लगाया और बिना किसी भेदभाव के पूरे प्रदेश का विकास किया। पहले टैक्स, उसके बाद वेट और अब जीएसटी को न्याय संगत कर हमारी सरकार ने कोटा स्टोन उद्योग को संरक्षण देने का काम किया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा जनता की आवाज उठाने का एक सशक्त मंच होता है। लेकिन पांच साल गायब रहकर आज एकाएक चुनाव के समय नजर आने वालों ने विधानसभा में जनता के लिए एक शब्द भी नहीं बोला। दो बार मुख्यमंत्री रह चुके व्यक्ति विधानसभा में जनता की आवाज नहीं उठाये और चुनाव आते ही बाहर निकल आये। इसी से स्पष्ट है कि इन लोगों का जनता से कोई लेना-देना नहीं है।
राजे ने कहा कि जब कांग्रेस की सरकार थी तब विकास इनकी प्राथमिकता नहीं थी। कहते थे हमारे पास पैसा नहीं है इसलिए विकास नहीं करा सकते। मैं कहती हूं उनके पास पैसों की नहीं विकास के लिए दृढ़ इच्छा शक्ति की कमी थी। हमने कभी नहीं कहा कि हमारे पास पैसा नहीं है। जनता ने जो भी वाजिब काम बताया वह हमने किया।
उन्होंने कहा कि आज चुनाव के वक्त पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर हल्ला मचा रहे हैं। जबकि राजस्थान सरकार ने इतिहास में पहली बार डीजल-पेट्रोल के दामों में इतनी कमी की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं एक महिला हूं और इस नाते मैं जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक अपनी महिला बहनों के साथ हर पल खड़ी हूं।

उन्होंने कहा कि राजश्री योजना में बेटी को लक्ष्मी का रूप मानकर जन्म से लेकर लगातार सरकारी स्कूल में 12वीं कक्षा पास करने तक उसे 50 हजार रूपये हमारी सरकार देती है। इसके अलावा साईकिल, स्कूटी, लेपटाॅप, छात्रवृत्ति, स्कूल दूर तो आने-जाने के लिए वाउचर, श्रमिक कार्डधारी है तो विवाह के लिए 55 हजार रूपये देकर महिला को सशक्त किया जा रहा है। महिला परित्यक्ता, विधवा, दिव्यांग और वृद्धा है तो उसे पेंषन दी जा रही है। पालनहार योजना में बच्चों को पालने के लिए 1 हजार रूपये तक प्रति बच्चा हर माह दिये जा रहे हैं।

राजे ने कहा कि महिलाओं को घर का मुखिया बनाने के लिए हमने भामाशाह योजना शुरू की। हमारी बेटियों की तरफ कोई आंख उठाकर न देखे इसलिए हमने 12 साल से कम उम्र की बच्ची से दुष्कर्म करने पर फांसी की सजा का कानून बनाया। अब तक 3 आरोपियों को यह सजा सुना दी गई है।
सभाओं में सार्वजनिक निर्माण मंत्री श्री यूनुस खान, कृषि मंत्री श्री प्रभुलाल सैनी, सामान्य प्रशासन मंत्री श्री हेमसिंह भड़ाना, सांसद श्री दुष्यन्त सिंह, श्री ओम बिड़ला, श्री निहाल चन्द, विधायक श्री भवानी सिंह राजावत, श्रीमती चन्द्रकान्ता मेघवाल, श्री रामचन्द सुनारीवाल, श्रीमती अल्का गुर्जर सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।

कोई जवाब दें