vidhaanasabha kshetr anta-maangarol kee janata ke shreecharanon mein naman: bhaaya

बारां। ऐतिहासिक जीत के पश्चात प्रमोद भाया ने कहा कि विधानसभा क्षेत्र अंता-मांगरोल की जनता ने मुझ पर भरोसा करते हुए, जो मान-सम्मान दिया, उसके लिए मैं सभी बुजूर्गों, माता-बहनों तथा युवा साथियों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए सर्वसमाज के श्रीचरणों में नमन करता हूॅ। मैं इस अभूतपूर्व जीत का श्रेय क्षेत्र की उन माताओं-बहनों, युवाओं, किसानों एवं बुजूर्गों को देना चाहूंगा, जिन्होंने सर्दी होने के बावजूद भारी मतों से मेरी जीत सुनिश्चित करने का लक्ष्य साधकर रात-दिन कड़ी मेहनत की। मैं परम आदरणीय शिवनारायण जी नागर सा. पूर्व विधायक बारां के प्रति अन्त:करण से कृतज्ञता व्यक्त करना चाहूंगा, जिन्होंने प्रतिकूल शारीरिक अवस्था के बावजूद मेरे लिए सम्पूर्ण क्षेत्र में डोर-टू-डोर घूमकर मेरी जीत सुनिश्चित करने का मार्ग प्रशस्त किया। मैं वरिष्ठ पार्टी नेताओं, पदाधिकारियों तथा कार्यकतार्ओं सहित शुभचिंतकों का भी आभार व्यक्त करना चाहूंगा, जो घर-परिवार एवं कारोबार छोड़कर मेरी ऐतिहासिक जीत के लिए सक्रियता से जुटे रहे। मैं उन सभी परिवारों का भी धन्यवाद ज्ञापित करना चाहूंगा, कि जो मेरी जीत में भागीदार बनने के लिए अपने-अपने पैतृक गांव पहुंचकर सपरिवार उत्साहपूर्वक मतदान किया।

मैं भरोसा दिलाना चाहूंगा कि विधानसभा क्षेत्र अंता-मांगरोल के जन-जन की अपेक्षाओं एवं आकांक्षाओं पर खरा उतरने का पूरा-पूरा प्रयास करूंगा। साथ ही वचनबद्ध हूॅ, कि मैंने कालांतर से अब तक जो भी वादे किये हैं, उन्हें पूरा करने के लिए कोई कोर-कसर नहीं रखूंगा। मैं परम्पिता परमात्मा का धन्यवाद ज्ञापित करता हूॅ, कि उसने मुझे ऐसे क्षेत्र में जन-जन की सेवा के लिए जन्म लेकर मानव जीवन की सम्पूर्ण यात्रा करने का सौभाग्य प्रदान किया, जहां कि छŸाीसी बिरादरी न केवल मुझे सिर-आंखों पर बिठाती है, बल्कि प्यार और स्नेह से ह्यभायाह्ण कहती है। मैं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी एवं प्रदेश कांग्रेस कमेटी के समस्त वरिष्ठ नेताओं तथा प्रभारीगण का भी आभार व्यक्त करना चाहूंगा, जिन्होनें मुझ पर विश्वास व्यक्त कर चुनाव लडने का अवसर प्रदान किया। मैं दोहराना चाहूंगा कि आप सभी की प्रबल भावनाओं एवं आशीर्वाद के कारण ही मैं राजनीति में आया तथा आप ही के आशीर्वाद से अब तीसरी बार विधायक चुना गया एवं एक बार राजस्थान सरकार में मंत्री बनने का सौभाग्य प्राप्त किया। मेरा सम्पूर्ण राजनीतिक वजूद आप सबके आशीर्वाद एवं अमूल्य योगदान से है, जिसके लिए मैं आप सभी का जीवन के अन्तिम क्षण तक ऋणी रहूंगा।

कोई जवाब दें