saharanpur Yogi Sarkar Chandrapura Shabbirpur Racial violence firing arson

लखनऊ। उत्तरप्रदेश के सहारनपुर के कुछ क्षेत्रों में मंगलवार को फिर से जातीय हिंसा भड़क उठी है। महाराणा प्रताप की जयंती से ही यह क्षेत्र जातीय हिंसा की चपेट में है। दो वर्ग आमने-सामने हैं। तमाम प्रयासों व समझाइश के बाद बी सुलह नहीं हो पा रही है, जिसके चलते सरकार और प्रशासन के भी हाथ-पांव फूले हुए हैं। आज बसपा सुप्रीमो मायावती सहारनपुर में गई और हिंसा से प्रभावित परिवारों से मिली। मायावती ने पीडित परिवारों को सुरक्षा उपलब्ध कराने की मांग की है, साथ ही कहा कि योगी सरकार दलित समाज को सुरक्षा नहीं दे पा रहे हैं। चन्द्रपुरा समेत कई गांवों में मायावती गई। हालांकि मायावती के जाते ही कुछ क्षेत्रों में तनाव हो गया। लोग फिर से आमने-सामने हो गए। पथराव और गोलीबारी की भी सूचना है। एक-दूसरे के घरों में आग लगने की घटनाएं भी हुई है। कुछ क्षेत्रों में तलवार लहराते युवक हमला करते दिखे हैं। सबसे ज्यादा तनाव चन्द्रपुरा में नजर आया। यहां दोनों वर्गों में जमकर लड़ाई की सूचना है। लाठी, भाटा के साथ तलवारें भांजी गई है। आगजनी भी हुई। पुलिस भी दंगाईयों के सामने बेबस सी दिखी, हालांकि मायावती के दौरे को देखते हुए पहले सी प्रशासन ने माकूल सुरक्षा इंतजाम कर रखे थे। लेकिन हालात तब बिगड़ गए, जब मायावती दौरा करके यहां से गई। चन्द्रापुरा, शब्बीरपुर व अन्य क्षेत्रों में फिर से हिंसा भड़क उठी। मौके पर आला अफसर और पुलिस जाप्ता हमलावरों व दंगाईयों को काबू करने में लगा है। आपसी हमलों में कई लोगों के घायल होने की सूचना है।

कोई जवाब दें