Anandpal

जयपुर। एटीएस ने जबसे अवैध हथियार गिरोह का भंडाफोड़ किया तभी से एटीएस इस केस की जड़ तक पहुंचने में जुट गई है और कोई भी क्लू नहीं छोड़ रही है जिससे की जांच में कोई कसर बाकी रह जाए। एटीएस ने गिरोह के सरगना राहुल से पूछताछ की है। जिसमें संभावना जताई जा रही है कि राहुल ने आनंदपाल और राजूठेहट को हथियार स्पलाई किए हों ऐसी भी संभावनाएं हैं। ऐसे में अब इस गिरोह से पूछा जा रहा है कि क्या उन्होंने आनंदपाल और राज ठेहट की गैंग के बारे में भी पूछताछ की जा रही है। एटीएस ने गिरोह के मास्टर माइंड राहुल ग्रोवर और भरत सिंह को कोर्ट में पेश किया जहां से राहुल का 22 सितंबर व भरत का 15 सितंबर तक का रिमांड मिला है। एटीएस मुख्याल में राहुल, विशाल, जुबेर और अन्य आरोपितों को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की। एटीएस सूत्रों के मुकाबिक आरोपितों से इस एंगल के बारे में भी पूछताछ की जा रही है। उन्होंने राज्य कौन-कौन से गिरोह और कुख्यात को हथियार के लाइसेंस और कारतूस दिए हैं।

और इधर बढ़ रही है अवैध हथियारों की संख्या
एटीएस ने हथियार तस्करी के मामले में जिन लोगों से पूछताछ की है उनमें से कई अहम खुलासे हुए हैं तथा कई जगह हथियारों को सप्लाी करने का पता भी चला है जिससे एटीएस ने अपनी गतिविधियां तेज कर दी है। एटीएसकी चार राज्यों में जम्मू कश्मीर के लाइसेंस पर रखे हथियारों पर हुई कार्रवाई में उदयपुर में हथियारों की संख्या बढ़ती जा रही है। सोमवार को हुई कार्रवाई में जहां 20 हथियार थे, वहीं इनकी संख्या अब 30 के पार हो गई है। साथ ही इसमें बड़े लोगों के नाम भी सामने रहे हैं। इधर, लाइसेंस की जांच करने के लिए एटीएस की एक टीम जम्मू कश्मीर जाएगी। एटीएस एसपी विकास कुमार ने बताया कि जिन व्यक्तियों से लाइसेंस और हथियार बरामद हुए हैं उनको पूछताछ के लिए जयपुर बुलाया जाएगा। एक टीम जम्मू कश्मीर जाएगी और वहां रुककर लाइसेंस की गहनता से जांच करेगी। उल्लेखनीय है कि एटीएस ने 4 राज्यों में 12 जगह पर कार्रवाई करते हुए हथियार और जम्मू कश्मीर के हथियारों के लाइसेंस बरामद किए थे जिसमें उदयपुर में सबसे ज्यादा थे। इसके बाद एटीएस ने उदयपुर के व्यक्तियों को नोटिस जारी किए थे।

जांच की जाएगी बरामद अवैध हथियारों की
एटीएसके सूत्रों का कहना है कि जो भी हथियार बरामद हुए हैं उनकी भी जांच की जाएगी कि कहीं वो फोर्जरी में तो नहीं है। इसका कारण है कि इसमें अधिकतर हथियार मध्यप्रदेश के देवास क्षेत्र के बने हैं और वह क्षेत्र सिकलीगरों जाति से अवैध हथियार बनाने के लिए कुख्यात हैं। वहां पर भारी मात्रा में हथियार बनाए जाते हैं।

कोई जवाब दें