लखनऊ। अवैध मीट के कारोबार पर कार्रवाई के फरमान का असर अब प्रदेश की होटलों, ढाबों व फुटपाथ पर लगने वाले ठेलों पर साफ देखने को मिल रहा है। जहां इनके मैन्यू से नाहरी, मटन स्टू गायब होने के साथ ही दाल-चावल के व्यंजन देखने को मिल रहे हैं। सीएम के रुख को देख प्रशासन भी सर्तक हुआ तो यूपी में करीब 5 हजार मीट की दुकानों पर स्थाई रुप से ताले जड़ गए। जिससे चिकन, मटन के साथ भैंसें के मीट की भारी किल्लत देखने को मिल रही है। इसके परिणाम स्वरुप यूपी में जगह-जगह मीट कारोबारियों ने हड़ताल शुरू कर दी। मांसाहार के लिए पहचाने जाने वाले राजधानी के हुसैनगंज इलाके स्थित मदीना होटल में अब नाहरी मटन स्टू की जगह दाल-चावल परोसा जा रहा है। ऐसा ही हाल टुंडे कबाब का देखने को मिला। जो अब ठप है। लखनऊ चिकन कमेटी अध्यक्ष मोहम्मद रिजवान सिद्दीकी ने बताया कि हमारे लाइसेंस रिन्यू नहीं हो रहे हैं प्रशासन अनावश्यक रूप से परेशान कर रहा है। ऐसे में सोमवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल कर दी गई। गौरतलब है कि यूपी में सीएम पद संभालने के साथ ही योगी आदित्यनाथ ने सबसे पहले अवैध बूचडख़ानों पर लगाम कसी। छापेमारी होने से कई अवैध बूचडख़ाने स्वत: ही बंद हो गए। वहीं पुलिस को सख्त निर्देश दिए कि गो-हत्या और अवैध रुप से संचालित बूचडख़ानों पर तत्काल रोक लगाई जाए। हालांकि स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि अधिकारी अति उत्साही न हो केवल अवैध तौर पर चलने वाले बूचडख़ानों पर ही कार्रवाई की जाए। सरकार ने चिकन और अंडे की दुकानों को बंद करने के लिए नहीं कहा है, अफवाहों पर ध्यान न दें।

-जनप्रहरी एक्सप्रेस की ताजातरीन खबरों से जुड़े रहने के लिए यहां लाइक करें।

कोई जवाब दें