जयपुर। राजस्थान के राजपूत नेताओं ने फिर से प्रदेश की भाजपा सरकार के खिलाफ आंदोलन की चेतावनी दी है। राष्ट्रीय श्री राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेडी ने शुक्रवार को जयपुर में प्रेसवार्ता करके सरकार को चेतावनी दी है कि सरकार आनन्दपाल एनकाउंटर मामले में हुए प्रदर्शनों के दौरान राजपूत नेताओं और युवाओं पर लगे मुकदमों को समाप्त करें, अन्यथा राजपूत समाज उग्र आंदोलन की राह पर निकलेगा।

dekha video

गोगामेडी ने आनन्दपाल और उनके परिजनों की सम्पत्तियों को जब्त करने की कार्रवाई की निंदा करते हुए इससे समाज में गुस्सा है। अगर सरकार ने कार्रवाई नहीं रोकी तो आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। गोगामेडी ने आरोप लगाया कि सरकार के इशारे पर राजस्थान पुलिस राजपूत नेताओं व समाज के युवाओं को प्रताड़ित कर रही है। जबकि सरकार और राजपूत समाज के बीच हुए समझौते के तहत मुकदमें समाप्त होने थे, लेकिन समाज की मांगों पर सरकार ध्यान नहीं दे रही है। लगातार कहने के बाद भी सरकार के कानों में जूं नहीं रेंग रही है। मुकमदें वापस नहीं होने पर 20 मई से प्रदेश के सभी संभागीय मुख्यालयों में धरने-प्रदर्शन किए जाएंगे, साथ ही प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजे जाएंगे। अगर फिर भी सरकार नहीं चेती तो सरकार के खिलाफ प्रदेशव्यापी आंदोलन छेड़ा जाएगा।

गोगामेडी ने कहा कि सरकार आनन्दपाल के परिजनों को प्रताड़ित करना बंद करे। अन्यथा समाज के लोग फिर से सड़क पर उतरने को मजबूर होंगे। सूरजपाल अम्मू ने पंचायत राज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ पर तंज कसते हुए कहा कि वे सरकार के जूते उठाना बंद करें। समाज के साथ खड़े हो, अन्यथा उन्हें परिणाम भुगतने होंगे। सूरजपाल ने आनन्दपाल एनकाउंटर टीम में शामिल आरपीएस विद्याप्रकाश की चुरु में पोस्टिंग पर सवाल उठाते हुए कहा कि उसे वहां से क्यों नहीं हटाया जा रहा है। वह सीबीआई जांच को प्रभावित कर सकते हैं। उन्हें वहां से हटाया जाना चाहिए।

कोई जवाब दें