patrol vesse

चेन्नई। लार्सन एंड टुब्रो द्वारा पूरी तरह अपने यहां विकसित एक अपतटीय गश्ती पोत (ओपीवी) आज तटरक्षक बल को सौंपा गया। किसी निजी जहाज कारखाने में बनाया गया यह देश का ऐसा पहला पोत है। यहां से करीब 45 किलोमीटर दूर लार्सन एंड टुब्रो के काट्टुपल्ली जहाज कारखाने में तैयार इस पोत ‘‘विक्रम’’ को तटरक्षकबल को सौंपा गया। इसे मार्च 2018 की तय समयसीमा से पहले ही तैयार कर सौंप दिया गया। यह उन सात पोतों में से पहला है जिनके निर्माण के लिये रक्षा मंत्रालय ने मार्च 2015 में 1,432 करोड़ रुपये का अनुबंध किया था। अनुबंध के मुताबिक पहले जहाज की आपूर्ति अगले वर्ष मार्च तक की जानी थी।

यह पोत अत्याधुनिक हथियार और रडार प्रणाली से युक्त है। इसे दिन रात निगरानी, गश्त, तलाशी और बचाव के साथ ही देश के विशेष आर्थिक क्षेत्रों में प्रदूषण रोधी अभियानों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। ओपीवी को पूरी तरह लार्सन एंड टुब्रो द्वारा डिजाइन किया गया है और यह निजी जहाज कारखाने में बनने वाला पहला रक्षा पोत होगा।
उपकरणों और मशीनों के विस्तृत परीक्षण के पूरा होने के बाद इसे अप्रैल 2018 से सेवा में शामिल किए जाने की उम्मीद है। इस पोत में एक 30 एमएम की स्वचालित तोप, 12.7 एमएम की दो तोप होंगी जो लक्ष्य भेदन नियंत्रण प्रणाली से युक्त होंगी। इस पर दोहरे इंजन वाला एक हेलीकॉप्टर भी तैनात होगा जो इसकी अभियानगत, निगरानी, खोज और राहत कार्य क्षमता को और बढ़ायेगा।

कोई जवाब दें