नई दिल्ली। मैं केन्द्र सरकार का कोई भी कानून नहीं मानूंगा। मैं लाल बत्ती का उपयोग जारी रखूंगा। क्योंकि यह लाल बत्ती मुझे पूर्व ब्रिटिश सरकार ने दी है। यह बात पश्चिम बंगाल में टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम मौलाना नुरुर रहमान इमाम बरकतीने बुधवार को लाल बत्ती का उपयोग करते हुए कही। उन्होंने कहा कि मैं शाही इमाम हूं और यही वजह है कि मैं अदालत के आदेश के बाद भी लाल बत्ती को किसी भी सूरत में नहीं छोडूंगा। दरअसल शाही इमाम जब अपनी गाड़ी पर लाल बत्ती लगाकर घूमते देखे गए तो पत्रकारों ने उनसे इस बारे में पूछ लिया। उन्होंने कहा कि सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि आप जला कर रखें, खूब जलाकर घूमते रहे हम आपके साथ हैं। बता दें केन्द्र की पीएम मोदी सरकार ने एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए वीआईपीए कल्चर को खत्म कर दिया था। इस कड़ी में उन्होंने वाहनों पर लाल बत्ती लगाने को लेकर कैबिनेट में फैसला भी लिया। जिस पर कैबिनेट ने मुहर लगा दी थी। केन्द्र के इस फैसले के बाद किसी भी नेता, मंत्री या अधिकारी को अपनी कार पर लाल बत्ती का इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं थी। वहीं कोलकाता के टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम बरकती अपनी कार पर लाल बत्ती लगाकर घूमते दिखे। हालांकि शाही इमाम के चर्चाओं में आने के साथ ही भाजपा की ओर से भी प्रतिक्रिया आई भाजपा की मीनाक्षी लेखी ने इसे अंधेर नगरी चौपट राजा वाली बात बताते हुए कहा कि जब सीएम बनर्जी खुद लाल बत्ती का उपयोग नहीं कर सकतीं तो बरकती को कैसे करने दे सकती हैं? वहीं सीके बोस ने इमाम को राष्ट्र विरोधी बताते कहा कि उन्हें तत्काल गिरफ्तार कर लेना चाहिए, सलाखों के पीछे पहुंचा देना चाहिए, कानून को तोडऩे की अनुमति किसी को नहीं है।

-जनप्रहरी की ताजातरीन खबरों के लिए लाइक करें।

कोई जवाब दें