भीलवाड़ा/जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि राज्य सरकार ने भामाशाह योजना के जरिए सरकारी योजनाओं के पैसे का लीकेज रोकने का काम किया है। भामाशाह योजना के माध्यम से पारदर्शिता आई है और सरकार की योजनाओं का एक-एक पैसा लाभार्थियों के खाते में सीधा पहुंच रहा है। राजे शनिवार को भीलवाड़ा जिले के आसीन्द में विशाल जनसभा को संबोधित कर रही थीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने राशन में बंटने वाले गेहूं तथा जरूरतमंदों को मिलने वाली सामाजिक सुरक्षा पेंशन सहित अन्य योजनाओं में भ्रष्टाचार को रोकने का काम किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब हमारी सरकार आई तो सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के पचास प्रतिशत तक पद खाली थे। हमने युवाओं को रोजगार देने के अपने वादे को निभाया और विभिन्न विभागों में नियुक्तियां देने का काम किया। करीब 68 हजार शिक्षकों को नियुक्तियां दे दी गई हैं। इसके अलावा करीब 86 हजार शिक्षक की नियुक्ति प्रक्रियाधीन है। इससे शिक्षकों के खाली पदों की समस्या दूर हो जाएगी। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने बीते पौने पांच साल में सात मेडिकल काॅलेज खोले हैं। जैसे ही इन काॅलेजों से पढ़कर चिकित्सक बाहर आएंगे तो ग्रामीण क्षेत्रों में डाॅक्टरों की कमी की समस्या दूर हो जाएगी।
राजे ने कहा कि हमारी सरकार ने लोकदेवताओं और महापुरूषांे की गौरव गाथाओं को संरक्षित करने के लिए पेनोरमा बनाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा जिले के मालासेरी में भगवान देवनारायण का पेनोरमा अक्टूबर माह तक पूरा हो जाएगा।

-सवाईभोज मंदिर के दर्शन किए, प्रेमसागर सरोवर के लिए दो करोड़
मुख्यमंत्री ने आसींद पहुंचते ही गुर्जर समाज के प्रसिद्ध तीर्थ सवाईभोज मंदिर के दर्शन किए। उन्होंने यहां श्रद्धा से शीश नवाया और प्रदेश की सुख-समृद्धि तथा खुशहाली की कामना की। मंदिर के महंत सुरेशदास जी महाराज ने श्रीमती राजे को चुनरी ओढाई। श्रीमती राजे ने मंदिर परिसर के समीप ही स्थित पवित्र प्रेमसागर सरोवर के विकास के लिए दो करोड़ रूपए देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में पूर्व महंत भूदेवदास महाराज को भी याद किया। उन्होंने कहा कि आज मुझे टोंक जिले के आवां में दिगंबर जैन मुनि श्री सुधासागर महाराज और यहां सवाई भोज मंदिर के महंत महाराज के दर्शन का सौभाग्य मिला है।

-पराक्रम पर्व पर दीए जलाएं
मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक की वर्षगांठ पर हम 28 से 30 सितम्बर तक पराक्रम पर्व मना रहे हैं। उन्होंने देश के जांबांज सैनिकों को नमन करते हुए प्रदेशवासियों का आह्वान किया कि वे सैनिकों के प्रति सम्मान अभिव्यक्त करते हुए दीए जलाएं।
राजे ने इस अवसर पर राजश्री, स्कूटी, साइकिल, लैपटाॅप वितरण योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि इन योजनाओं से सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाया है। उन्होंने कहा कि हमने किसानों के लिए बिजली की दरें नहीं बढाई। इसके साथ ही प्रदेश के करीब तीस लाख किसानों के पचास हजार तक के ऋण माफ करने की ऐतिहासिक योजना लागू की है।
करेड़ा की सभा में मुख्यमंत्री ने कहा कि करीब 2200 करोड़ रूपये की चम्बल-भीलवाड़ा वृहद परियोजना से भीलवाड़ा जिले के 9 शहरों को पानी मिलेगा। उन्होंने कहा कि परियोजना का दूसरा चरण भी जल्दी शुरू होगा, जिसमें चम्बल-भीलवाड़ा परियोजना के माण्डल क्लस्टर के दूसरे चरण से 168 गावों को पानी मिलेगा। श्रीमती राजे ने कहा कि विभिन्न समाजों के लोगों ने मुझे जो चुनरी ओढाई है उसकी लाज रखते हुए मैं घर की मुखिया के रूप में हमेशा आपका मान रखूंगी।
राजे ने भीलवाड़ा जिले के गंगापुर कस्बे में आयोजित सभा में कहा कि गंगापुर और आसपास के 326 गांवों को चम्बल-भीलवाड़ा पेयजल परियोजना के दूसरे फेज से पानी मिलेगा। स्थानीय सांसद तथा विधायक कुछ दिन में इस योजना का शिलान्यास करेंगे। उन्होंने कहा कि इस योजना का निर्माण कार्य डेढ़ वर्ष में पूरा जाएगा और जून 2020 तक गंगापुर तथा आसपास के क्षेत्र को पेयजल आपूर्ति शुरू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि पेयजल परियोजना के साथ-साथ आगामी कुछ महीनों में क्षेत्र के 20 स्कूलों में अतिरिक्त कक्षा कक्ष, खेल मैदान और प्रार्थना स्थल आदि का निर्माण कराया जाएगा। जिले में 132 केवी क्षमता का एक तथा 33 केवी क्षमता के 10 जीएसएस के निर्माण कराने के बाद अब 2 नये 33 केवी के जीएसएस की स्वीकृति दे दी गई है, जिनका कार्य भी शीघ्र शुरू होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बीते पौने पांच वर्षों में भीलवाड़ा जिले में 13 हजार करोड़ रुपये के विकास कार्य हुए हैं। अकेले सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र में 1500 करोड़ रुपये के विकास कार्य हुए हंै। इस क्षेत्र की सभी 64 ग्राम पंचायतों में ग्रामीण गौरव पथ बनाए गए हैं तथा 64 स्कूलों को उच्च माध्यमिक विद्यालय में क्रमोन्नत किया गया है। भीलवाड़ा में बिजली तंत्र के सुधार कार्यों के लिए 550 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने जिले में स्थानीय आवश्कता के अनुसार छोटे-मोटे काम पूरे कराने के लिए जिला कलक्टर को 5 करोड़ रुपये की राशि देने की भी घोषणा की।
इस अवसर पर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री बाबूलाल वर्मा, मुख्य सचेतक श्री कालूलाल गुर्जर, सांसद श्री सुभाष बहेडिया, विधायक श्री अशोक परनामी, श्री रामलाल गुर्जर, श्री बीआर चैधरी, श्री विट्ठलशंकर अवस्थी सहित अन्य जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

कोई जवाब दें