नई दिल्ली। पाकिस्तान के गुजरांवाला शहर में पोस्टर लगे हुए हैं। इनमें लश्कर-ए-तैयबा का दावा है कि भारत के उड़ी हमले के पीछे उसी का हाथ था। पोस्टर्स को उड़ी हमले में पाक का हाथ होने का पहला सबूत माना जा सकता है। साथ ही ये पोस्टर्स भारत के उस दावे की पुष्टि करते हैं जिसमें उसने हमले के पीछे पाक के आतंकी गुटों का हाथ होने की बात कही थी। हालांकि पाक इससे इनकार करता रहा है। 18 सितंबर को उड़ी के आर्मी ब्रिगेड हेडक्वार्टर पर सीमापार से घुसे आतंकियों ने हमला किया था। इसमें 20 जवान शहीद हुए थे। आर्मी के ऑपरेशन में चारों आतंकियों को मार गिराया था। पोस्टर्स में गुजरांवाला के ही एक शख्स का नाम है। गुजरांवाला के रहने वाले मुहम्मद अनस को हमले का जिम्मेदार बताया गया है। अनस अबू सिराका के नाम से ऑपरेट करता था। अखबार के मुताबिक, लोगों को लश्कर की नमाज में बुलाया जाता था। ‘लश्कर, अबू सिराका को अपना ऐसा बहादुर लड़ाका बताया है जिसने उड़ी ब्रिगेड कैम्प में हिंदू जवानों को जहन्नुम में भेज दिया और खुद शहीद हो गया। पोस्टर्स में जमात-उद-दावा चीफ हाफिज सईद की भी फोटो लगी हुई है। जमात, लश्कर का ही पेरेन्ट टेररिस्ट ऑर्गनाइजेशन है। पोस्टर्स में लिखा गया है, ‘घायबाना नमाज जनाजा (अंतिम संस्कार) बिना बॉडी के बड़ा नुल्लाह में किया जाएगा। इसमें हाफिज सईद भी भाषण देगा।’ बड़ा नुल्लाह भी पंजाब के गुजरांवाला में ही है।

कोई जवाब दें