Kuldeep Yadav
कोलंबो |  श्रीलंका दौरे का अच्छा अंत करने के बाद भारतीय टीम के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने गुरुवार को टीम की रोटेशन पॉलिसी का स्वागत किया है। उनका मानना है कि इससे टीम को 2019 में होने वाले विश्व कप से पहले नए संयोजन ढूंढ़ने में मदद मिलेगी। भारत ने श्रीलंका पर उसके घर में लगातार नौ हार दी हैं। पहले भारत ने मेजबानों को तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-0 से मात दी। उसके बाद पांच वनडे मैचों की सीरीज में 5-0 से हराया। बुधवार को खेले गए एकमात्र टी-20 मैच में भी भारत ने श्रीलंका को शिकस्त दी। टी-20 मैच में दो विकेट लेने वाले कुलदीप ने कहा, मैं इस नीति से काफी खुश हूं। आपको इसके लिए कप्तान और कोच दोनों को श्रेय देना होगा क्योंकि विश्व कप आने वाला है और हम हर किसी को आजमाना चाहते हैं। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की वेबसाइट ने कुलदीप के हवाले से लिखा है, “हर किसी को टीम में योगदान देना चाहिए, खासकर तब जब कप्तान और कोच खिलाड़ियों को बदल- बदल कर आजमाते हैं। एक खिलाड़ी के तौर पर आपको हर मैच में अच्छा प्रदर्शन करना चाहिए। इस सीरीज में रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा को आराम दिया गया था। ऐसे में स्पिन विभाग में टीम की जिम्मेदारी कुलदीप और लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल के अलावा हरफनमौला खिलाड़ी अक्षर पटेल की थी। चहल के साथ अपनी साझेदारी पर कुलदीप ने कहा, उनके साथ गेंदबाजी करना अच्छा अनुभव रहा। अगर दो लेग स्पिनर खेलते हैं तो विकेट लेने की ज्यादा संभावनाएं होती हैं। कुलदीप अपने कप्तान की तारीफ करते हुए कहा है कि वह न सिर्फ गेंदबाजों को जिम्मेदारी देते हैं बल्कि उनके अपनी मर्जी से गेंदबाजी करने की स्वतंत्रता भी देते हैं। उन्होंने कहा, वह कप्तान हैं। वह आगे से टीम का नेतृत्व करते हैं और आपको वो सभी देते हैं जिसकी आपको मैदान पर जरूरत होती है। कानपुर से आने वाले इस युवा गेंदबाज ने कहा, जब मैं गेंदबाजी कर रहा था तब वह मेरे पास आए और मुझे फील्डिंग के बारे में पूछा। एक गेंदबाज कप्तान से यही चाहता है। उन्होंने कहा, वह गेंदबाज को स्वतंत्रता देते हैं। विराट भाई ने मेरा टेस्ट और वनडे में काफी साथ दिया है और अभी भी दे रहे हैं। इस तरह की टीम एकता और कप्तान से मैं काफी खुश हूं।

कोई जवाब दें