ED- Mehul Choksi group-pnb froad

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक में हुए 13,600 करोड़ रुपए के घोटाले में रिकवरी की कोशिसें सफल नहीं हो रही है। घोटाले को अंजाम देने वाले नीरव मोदी व अन्य से बीस फीसदी रिकवरी होने का अनुमान है। प्रवर्तन निदेशालय का कहना है कि 13600 करोड़ रुपए के घोटाले में से सिर्फ बीस फीसदी ही रिकरवरी होने का संभावना है। घोटाले को अंजाम देने वाले डायमंड कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी हैं विदेश भाग चुके हैं। वे भारत नहीं लौट रहे हैं और ना ही सरकार अभी तक इन्हें गिरफ्तार करके ला पाई है।

गौरतलब है कि पहले खबर आई थी कि जांच एजेंसियों ने आरोपियों की कारें, महंगी पेंटिंग्स, ज्वैलरी और रीयल एस्टेट प्रॉपर्टी जब्त की है, जिससे करीब 7000 करोड़ रुपए तक की रिकवरी हो सकती है। हालांकि अब प्रवर्तन निदेशालय ने स्वीकार किया है कि रिकवरी की रकम अनुमानित रकम के मुकाबले काफी कम है और यह सिर्फ 2000-3000 करोड़ रुपए तक हो सकती है। प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों के अनुसार, नीरव मोदी से घोटाले का 50 प्रतिशत तक रिकवर होने की उम्मीद थी, लेकिन अब उसके चांस बेहद कम हैं। दरअसल नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष संपत्ति जब्त की गई है, उसकी कीमत पहले बढ़ा-चढ़ाकर बताई गई थी, लेकिन असलियत में इस सामान की कीमत अनुमानित मूल्य का 10 प्रतिशत ही है। हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि भारत में अभी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की कुछ और संपत्तियां भी हैं, लेकिन इसमें पेंच ये है कि ये संपत्तियां नीरव मोदी के नाम पर नहीं हैं। ऐसे में इन्हें सीज करने में प्रवर्तन एजेंसियों को परेशानी आ सकती है।

कोई जवाब दें