new jobs
जयपुर। कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल रोकने के लिए राजस्थान पुलिस ने कड़े नियम तय किए हैं। जिस तरह से नियम बनाए है, उससे लगता है कि वंचितों को परीक्षा से पहले ही पुलिस के कठिन एग्जाम से गुजरना पड़ेगा। कांस्टेबल के 13142 पदों पर होने वाली परीक्षा में नकल रोकने के चक्कर में पुलिस ने अभ्यर्थियों के लिए कई ऐसे कड़े नियम तय कर दिए हैं, जो प्रताड़ना से कम नहीं हैं। परीक्षार्थियों के पास पारदर्शी बाल पैन होने पर ही वह परीक्षा दे सकेगा। पारदर्शी बाल पैन नहीं होने पर परीक्षार्थी को परीक्षा केन्द्र में प्रवेश नहीं मिलेगा। परीक्षा के दौरान अभ्यर्थी को शौचालय जाने की अनुमति नहीं होगी।
पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) गौरव श्रीवास्तव ने परीक्षा को लेकर आदेश जारी किए हैं। परीक्षार्थी को प्रवेश पत्र के साथ फोटो पहचान पत्र वोटर आईडी, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पेन कार्ड या पासपोर्ट, लाना अनिवार्य होगा। यह दस्तावेज न होने पर परीक्षार्थी की बैंक या डाकघर की फोटो युक्त पासबुक मान्य होगी, लेकिन पासबुक में अंतिम एंट्री छह महीने के दौरान होनी अनिवार्य है। परीक्षार्थी ओएमआर शीट को नीली या काली स्याही के पैन से भर सकेंगे, लेकिन बाल पैन का पारदर्शी होना जरूरी है। परीक्षार्थी को दो घंटे पहले परीक्षा केन्द्र पर पहुंचना होगा और आधे घंटे पहले उसे प्रवेश दिया जाएगा। परीक्षार्थी के घड़ी, कानों के टॉप्स, लॉकेट, चेन, जेवरात पहनने पर भी रोक रहेगी। परीक्षार्थियों का ड्रेस कोड तय कर दिया गया है।
परीक्षार्थियों को आधी आस्तीन की टी-शर्ट, शर्ट या आधी आस्तीन का कुर्ता, ब्लाउज के साथ हवाई चप्पल पहनकर आना होगा। पूरी या मुड़ी हुई आस्तीन की शर्ट पहन कर आने वालों को परीक्षा देने की अनुमति नहीं होगी। महिला परीक्षार्थी बालों में साधारण रबर बैंड ही लगाकर आ सकेंगी। परीक्षार्थियों के फुटवियर परीक्षा केन्द्र के बाहर खुलवाए जाएंगे। परीक्षा केन्द्र के आवंटन को लेकर भी परीक्षार्थियों में नाराजगी देखने को मिल रही है। कई परीक्षार्थियों का परीक्षा केन्द्र उनके जिले से बाहर आवंटित किया गया है। ऐसे में उन्हें परीक्षा देने दो दिन पहले वहां जाना होगा। जयपुर के कई परीक्षार्थी शहर में सुविधा होने के बावजूद दूसरे शहर में जाकर परीक्षा देने को मजबूर होंगे।

कोई जवाब दें