Vasundhare raje
जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली को पत्र लिखकर राजस्थान के विशिष्ट उत्पादों और सेवा क्षेत्रों पर लागू माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की दरों को तर्कसंगत बनाने की मांग की है। उन्होंने राज्य के लिए महत्वपूर्ण तिलपट्टी, चिक्की, गजक आदि उत्पादों पर जीएसटी दरें घटाने का विशेष आग्रह किया है।
राजे ने बुधवार को भेजे पत्र के माध्यम से कहा कि तिलपट्टी, चिक्की, गजक, रेवड़ी आदि उत्पादों पर 18 प्रतिशत की दर से जीएसटी लागू है, जो बहुत अधिक है। उन्होंने लिखा कि मिठाइयों पर केवल 5 प्रतिशत जीएसटी दर लागू है, इसलिए इन खाद्य उत्पादों पर भी जीएसटी दर 18 से घटाकर 5 प्रतिशत ही रखी जाए। साथ ही, मेहंदी उत्पाद एवं मार्बल, ग्रेनाइट, हॉस्पिटलिटी सेक्टर तथा राजस्थानी घोड़ों पर भी जीएसटी की दरें घटाई जाएं, जिनके लिए पूर्व में अनुरोध किया जा चुका है। मुख्यमंत्री ने जीएसटी परिषद की 22वीं मीटिंग में लघु एवं मध्यम उद्योगोें के लिए कर दरों में राहत देने के निर्णयों पर वित्त मंत्री जेटली का धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में कड़ी प्रतिस्पर्धा के चलते राजस्थान के निर्यात क्षेत्र से जुड़े उद्यमी जीएसटी की उच्च दरों के कारण प्रभावित हो रहे थे। उन्होंने कहा कि अब परिषद की बैठक में हुए सकारात्मक निर्णयों के बाद देश के निर्यात उद्योग को राहत मिलेगी। राजे ने आशा व्यक्त की कि देश में विकास के लिए एक सुदृढ़ ढांचा विकसित करने के लिए जीएसटी तथा मेक-इन-इण्डिया जैसे अभियान आवश्यक हैं। उन्होंने इन अभियानों की सफलता के लिए कर दरों को अधिक तर्कसंगत बनाने का सुझाव दिया।

कोई जवाब दें