aavaasan-mandal-prataapanagar-shyopur-rod-ke-haalaat-hausing-bord-ke-makaan-mein-bana-diya-avaidh-kompaleks

जयपुर। चुनाव क्या आए अवैध निर्माण करने वालों की पौबारह हो गए। पूरे प्रतापनगर में इस समय अवैध निर्माण की बाढ़ सी आ गई है। मुख्य सड़क पर अवैध निर्माण करने वाले जैसे इस चुनाव का पूरा का पूरा फायदा उठाना चाहते है। इसी का फायदा उठा कर प्रतापनगर श्योपुर रोड स्थित राजस्थान हाउसिंग बोर्ड के एक मकान में बिल्डर ने अवैध निर्माण कर 20 दुकानों का पूरा का पूरा बाजार खड़ा कर दिया गया और हाउसिंग बोर्ड-नगर निगम के अधिकारी देखते रहे। मकान नंबर 60/1 के इस मकान में अवैध बाजार बनाते समय नियम और कायदे कानूनों की पूरी तरह धज्जियां उड़ाई गई है। सबसे पहले तो एचआईजी कार्नर वाले इस मकान को तोड़ कर अवैध रुप से बेसमेंट और भूतल पर दुकानें बनाई गई है। सेटबैक का पूरी तरह उल्लंघन किया गया है। पार्किंग के लिए किसी भी तरह की जगह नहीं छोड़ी गई है। नगर निगम और हाउसिंग बोर्ड के अधिकारियों को इस आशय की शिकायत भी की गई अधिकारी मौके पर भी पहुंचे लेकिन अवैध निर्माण देख कर वापस लौट आए। बिल्डर एक एक दुकानों को लाखों रुपए में बेच रहा है। इस अवैध बाजार बनने का जबरदस्त खामियाजा नगर निगम को राजस्व के नुकसान के रूप में हुआ है। बिल्डर ने यहां आवासीय निर्माण बता कर व्यावसायिकनिर्माण कर लिया जिससे निगम को भी कुछ नहीं मिला। स्थानीय निवासियों ने कई बार नगर निगम के सांगानेर जोन आयुक्त, राजस्व अधिकारी के ध्यान में लाते हुए इस अवैध निर्माण की शिकायत की है। इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई। वैसे तो पूरे श्योपुर रोड पर ही लोगों ने आवासीय इलाके को अवैध तरीके से व्यावसायिक इमारतों में बदल दिया है। इससे 80 फीट चौड़ी सड़क मौके पर घट कर 40 फीट से भी कम रह गई है। पार्किंग के लिए मात्र 5 फीट की जगह छोड़ी गई है और वो भी फुटपाथ की जमीन रोक कर । इस तीन मंजिला मकान में ग्राउंड फ्लोर और बेसमेंट में दुकानें बना दी जबकि दूसरे और तीसरे माले को अभी ओपन किया हुआ है। यहां पर भी आवश्यकतानुसार दुकानें या शोरूम बना दिया जाएगा।

पूरी इमारत को सीज करने की मांग
स्थानीय निवासियों ने नगर निगम में शिकायत कर पूरी इमारत को सीज करने की मांग की है। लोगों का कहना है कि इस तरह एक एक मकान में दुकानों का बाजार खड़ा कर दिया गया तो सड़क पर चलने लायक जगह नहीं बचेगी। साथ ही आवासीय इलाके में शांति से रह रहे लोगों के खलल पड़ेगा। ऐसे में इस पूरी इमारत को सीज किया जाए।

कोई जवाब दें