-विश्व जल सरंक्षण सप्ताह का आगाज़

बाड़मेर. विश्व के कई देश आज पानी की कमी से जूझ रहे है ,ये वह देश है जहाँ पानी का अंधाधुंध दोहन हुआ था। वक़्त पर वहाँ के निवासियों ने पानी की कीमत नही पहचानी जिसके चलते आज हालात विकट है । यह कहना है यूआईटी चेयरमैन डॉक्टर प्रियंका चौधरी का। उन्होंने यह बात जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, केयर्न इंडिया और सीसीडीयू के सँयुक्त तत्वाधान में शुरू हुए विश्व जल सरंक्षण सप्ताह के आगाज़ पर कही। स्थानीय मदर टेरेसा सीनियर सेकेंडरी स्कूल में बुधवार की रोज जल दिवस के अवसर पर इस आयोजन का आगाज़ हुआ। डॉक्टर प्रियंका चौधरी ने बच्चो को पानी की एक एक बूंद बचाने की अपील की। विश्व जल सरंक्षण सप्ताह की शुरुआत में सीसीडीयू के आई ई सी कन्सलटेन्ट अशोक सिंह राजपुरोहित ने सप्ताह भर में आयोजित होने वाले कार्यक्रमो की रुपरेखा रखी। आयोजन को संबोधित करते हुए जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधीक्षण अभियंता नेमाराम परिहार ने कहा कि जल जीवन का सबसे अहम आधार है इसके बिना किसी जीवन की कल्पना नही की जा सकती ऐसे में इसका अपव्यय रोकना बेहद जरुरी है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बाड़मेर पुलिस व्रताधिकारी ओम प्रकाश उज्ज्वल ने राजस्थानी में अपना उद्बोधन देते हुए कहा कि जल और जीवन दोनों के दूसरे के पर्याय है । दोनों को बचाने के लिए हर किसी को कदम बढ़ाने होंगे। जल बचाना अकेले किसी विभाग या वर्ग का काम नही है इसके लिए हर किसी को आगे आना होगा।

आयोजन को संबोधित करते हुए केयर्न इंडिया के डॉक्टर उमा बिहारी द्विवेदी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने आने वाले कल में जल की कमी को देखते हुए जल दिवश की शुरुआत की। जल दिवश के महत्व पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि आज हर किसी को गम्भीरता से जल बचत के लिए कदम बढ़ाने होंगे। कार्यक्रम में आये अतिथियों का विद्यालय प्रबन्धक ठाकराराम सारण ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन हरीश जांगिड़ ने किया। विश्व जल दिवस पर स्थानीय मदर टेरेसा सीनियर सैकंडरी स्कुल में आयोजित समारोह के दौरान एक साथ 2 हजार बच्चो को जल सरंक्षण की शपथ दिलाई गई। यूआईटी चेयरमैन डॉक्टर प्रियंका चौधरी ने बच्चो को अपने जीवन में अपने घर, अपने आस पास और अपने इलाके में पानी की एक एक बूंद बचाने की शपथ दिलाई। जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग और केयर्न इंडिया के संयुक्त तत्वावधान में शुरू हुए विश्व जल संरक्षण सप्ताह के अन्तर्गत आगामी 27 मार्च तक कई आयोजनों का आयोजित किया जायेगा। जिसमें 23 मार्च को चित्रकला प्रतियोगिता, 24 मार्च को भाषण प्रतियोगिता, वाद विवाद प्रतियेगिता और दिपदान का आयोजन किया जायेगा वहीं 25 मार्च को क्वीज प्रतियोगिता, 26 मार्च को निबंध प्रतियोगिता आयोजित की जायेगी। 27 मार्च को विश्व जल संरक्षण सप्ताह का समापन समारोह आयोजित होगा जिसमें विभिन्न प्रतियेगिताओं में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर रहने वाले प्रतिभागीयों को पुरूस्कृत किया जायेगा।

कोई जवाब दें