नई दिल्ली। दो फ ाड़ के करीब पहुंच चुकी समाजवादी पार्टी में अब उसके चुनाव चिह्न को हथियाने व पार्टी को कब्जे में लेने के लिए जंग तेज हो गई है। पिता मुलायम सिंह यादव और सीएम पुत्र अखिलेश यादव दोनों ही पार्टी और चुनाव चिन्ह पर कब्जे के लिए दिल्ली में निर्वाचन आयोग पहुंच गए हैं। दोनों ही गुट पार्टी में खुद को सर्वेसर्वा बताते हुए पार्टी के चुनाव चिन्ह साइकिल पर अपना दावा ठोक कर रहे हैं। इस संबंध में दोनों ही गुट ने निर्वाचन आयोग से ना केवल समय मांगा है, बल्कि पूरी तैयारी के साथ भी पहुंच रहे हैं। मुलायम सिंह यादव सोमवार को दिल्ली में ही अमर सिंह से मुलाकात करेंगे और उनके साथ शिवपाल यादव भी होंगे। अमर सिंह लंदन से दिल्ली पहुंच गए हैं। मुलायम सिंह यादव ने 5 जनवरी का अधिवेशन स्थगित कर दिया है। सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। अखिलेश यादव के महासम्मेलन में खुद को राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत दूसरे फैसलों को असंवैधानिक बताने के बाद मुलायम सिंह इस मामले में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं। उधर, लंदन से दिल्ली पहुंचे अमर सिंह ने कहा कि मैंने राज्यसभा का टिकट नहीं मांगा था। मुलायम सिंह ने कहा था कि वह हमारे दल में नहीं दिल में है। मैं मुलायम सिंह के साथ हूं। मैं मुलायम सिंह के लिए नायक बना अब खलनायक बनने के लिए भी तैयार हूं। शिवपाल यादव ने कहा कि नेताजी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे और रहेंगे। मैं प्रदेश अध्यक्ष हूं। मरते दम तक नेताजी के साथ रहूंगा।

कोई जवाब दें