raashtreey mahila aayog poorvottar kshetr mein mahilaon ke lie aajeevika kaaryakram mein madad karega

नई दिल्ली। राष्ट्रीय महिला आयोग कौशल विकास और विशेष प्रशिक्षण के माध्यम से पूर्वोत्तर क्षेत्र में महिलाओं विशेषकर युवा महिलाओं के लिए आजीविका कार्यक्रम में मदद करेगा ताकि वे सशक्त बन सकें और अपनी आजीविका चला सकें। पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास, प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक लोकशिकायत एवं पेशंन और परमाणु ऊर्जा तथा अंतरिक्ष राज्य मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह तथा राष्ट्रीय महिला आयोग की नवनियुक्त सदस्य श्रीमती सोसो शाइजा के बीच आज नई दिल्ली में हुई बैठक में इस विषय पर चर्चा की गई।बैठक में यह देखा गया कि बाहरी कामकाज में पूर्वोत्तर क्षेत्र की महिलाएं काफी सक्रिय रही हैं लेकिन इसके बावजूद दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं में शिक्षा का स्तर बढ़ाने के लिए अभी भी काफी गुंजाइश बाकी है। उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए कौशल प्रशिक्षण की आवश्यकता भी महसूस की गई ।डॉ. जितेन्द्र सिंह ने कहा कि महिला आयोग उनके मंत्रालय द्वारा पूर्वोत्तर क्षेत्र में महिलाओं के लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं में मदद कर सकता है। उन्होंने इस संदर्भ में पूर्वोत्तर की कई महिला स्वसहायता समूहों का उल्लेख किया और कहा कि यह समूह सराहनीय कार्य कर रहे हैं।

बैठक में बेंगलूरू और मुम्बई में रह रही पूर्वोत्तर क्षेत्र की महिलाओं के विषय पर भी चर्चा की गई। डॉ. सिंह ने श्रीमती शाइजा को बताया कि बेंगलूरू विश्वविद्यालय परिसर में पूर्वोत्तर की छात्राओं के लिए महिला छात्रावास बनाने का काम लगभग पूरा हो चुका है। इसके लिए पूरी आर्थिक मदद पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय की ओर से उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने यह भी बताया कि दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में भी पूर्वोत्तर की छात्राओं के लिए एक महिला छात्रावास बनाया जा रहा है जिसमें 200 छात्राएं रह सकती हैं। डॉ. सिंह ने श्रीमती शाइजा को भरोसा दिलाया कि पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय के तहत काम करने वाले सार्वजनिक उपक्रम भी इस क्षेत्र में महिलाओं से जुड़े कार्यक्रमों में सहयोग देंगे।

कोई जवाब दें