Kaladera-illegal construction
Kaladera-illegal construction

चौमू। चौमू तहसील के कालाडेरा गांव बस स्टेण्ड पर चौमू-रेनवाल रोड पर बिना नक्शे मंजूर किए अवैध निर्माण किया जा रहा है। करीब पांच सौ वर्गगज के भूखण्ड पर कॉमर्शियल कॉम्पलैक्स के निर्माण के लिए बेसमेंट खोद दिया गया है। इस निर्माण के संंबंध में ना तो ग्राम पंचायत कालाडेरा व पंचायत समिति गोविन्दगढ़ व दूसरे संबंधित विभाग से नक्शे मंजूर करवाए हैं और ना ही एनओसी प्राप्त की है। मिलीभगत के चलते अवैध निर्माण खड़ा किया जा रहा है। सेटबैक और बिल्डिंग बायलॉज का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। यह अवैध निर्माण सरकारी भूमि और सड़क सीमा की भूमि को पाटते हुए किया जा रहा है। संस्कृत महाविद्यालय की जमीन को भी दबाकर निर्माण किया जा रहा है।
अवैध निर्माण के संंबंध में कालाडेरा निवासी एडवोकेट राजेश शर्मा ने जिला कलक्टर सिद्धार्थ महाजन, एसडीएम चौमू सीमा शर्मा, तहसीलदार, बीडीओ ललित कुमार, ग्राम पंचायत कालाडेरा सरपंच विष्णु नागर व सचिव रवि प्रकाश शर्मा को लिखित शिकायत दी जा चुकी है। शिकायत में बताया है कि कालाडेरा गांव के ही भंवर लाल सांखला, जगदीश प्रसाद शर्मा, छीतर मल यादव संगठित तौर पर जमा होकर सरकारी भूमि को दबाते हुए अवैध निर्मांण में लगे हैं। शिकायत के संबंध में जिला कलक्टर जयपुर ने चौमू उपखण्ड अधिकारी से मामले की रिपोर्ट तलब की है।

– अवैध निर्माण का भूखण्ड भी विवादों में…
एडवोकेट राजेश शर्मा की ओर से लिखित शिकायत में बताया है कि जिस भूखण्ड पर अवैध तरीके से कॉमर्शियल इमारत खड़ी की जा रही है, उस भूखण्ड के मालिकाना हक व पट्टों को लेकर विवाद है। वर्ष १९६८ में कालाडेरा ग्राम पंचायत ने इस भूखण्ड का पट्टा सूरजमल रावत पुत्र कालूराम रावत के नाम से जारी किया हुआ है। वर्ष 2002 में इसी भूखण्ड व भूमि का फिर से दो पट्टे जारी कर दिए गए। एक पट्टा माधोलाल, गजानन्द पुत्र किशनलाल जांगिड़ व दूसरा पट्टा प्रभाती देवी पत्नी किशनलाल जांगिड के नाम से बनाया गया। तत्कालीन सरपंच कंचन कुमावत के समय ये पट्टे जारी किए, जिस पर पट्टों-दुकान आवंटन में भ्रष्टाचार को लेकर एसीबी ने मामला दर्ज किया था। शिकायत में बताया है कि भंवर लाल सांखला व अन्य लोग इस विवादित भूखण्ड पर अवैध निर्माण में लगे हैं। यहीं नहीं भंवर लाल सांखला ने कालाडेरा बस स्टेण्ड पर इस विवादित भूखण्ड के सामने ही चारागाह भूमि पर अवैध निर्माण कर रखा है।

कोई जवाब दें