Triple divorce
जयपुर। राजस्थान की तीन सीटों पर करारी हार सोशल मीडिया पर खूब छाई हुई है। सोशल मीडिया पर इन हारों के लिए खूब तंज कसे जा रहे हैं। हर वर्ग अपनी बेबाक राय जाहिर कर रहा है। खासकर कर्मचारी, व्यापारी और पॉलिटिकल कार्यकर्ताओं के साथ समाज के लोग भी खूब व्यंग्य बाण चला रहे हैं। इनके निशाने पर सीधे तौर पर सरकार है। सोशल मीडिया पर चल रहे व्यंग्य बाणों में आज भाजपा व संघ के कार्यकर्ता काफी हद तक शांत दिखे।
ना तो उनकी प्रतिक्रिया दिखी और ना ही कोई डायलॉग्स। हर कोई इन हारों को लेकर चटकारे ले रहे है। कुछ तो हार के लिए समाज और कर्मचारियों से पंगा लेना बता रहे है। एक महाशय लिख रहे हैं कि आखिर जनता ने वसुंधरा सरकार को ट्रिपल तलाक दे दिया। अलवर, अजमेर और मांडलगढ़ का नाम लेते हुए ट्रिपल तलाक का शोर सोशल मीडिया पर खूब है। इसी तरह राजपूत समाज भी खूब एक्टिव दिखा। वे कह रहे हैं जो हमसे टकराएंगे, वे चूर-चूर हो जाएंगे। भाजपा की तो क्या औकाद है। सातवें वेतन आयोग के लाभों से वंचित कर्मचारी भी पीछे नहीं है। वे भी ताने कस रहे हैं कि वसुंधरा सरकार तुमने हमारा वेतन काटा, हम तेरा पत्ता काट रहे हैं।
कर्मचारियों का भाजपा को वेतन कटौती का रिटर्न गिफ्ट… भड़का हुआ कर्मचारी। व्यापारी भी पीछे नहीं है। जीएसटी को लेकर कह रहे हैं कि तुमने हमारे बैंक पर डाका डाला, हम भी तुन्हें नहीं छोड़ेंगे। लुटा हुआ व्यापारी…। इस तरह के व्यंग्य सोशल मीडिया पर खूब चल रहे हैं। इन्हें देखकर लग रहा है कि वाकये में सरकार के कामकाज को लेकर जनता की राय ठीक नहीं है। अगर सुधारा नहीं हुआ तो आगे भी परिणाम चौंकाने वाले होंगे।

कोई जवाब दें