चिकित्सा मंत्री ने किया मदर एवं चाइल्ड सेंटर का लोकार्पण

जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ ने शनिवार को प्रातः राजकीय रुकमणी देवी प्रसाद जयपुरिया चिकित्सालय के मदर एवं चाइल्ड केयर सेंटर के विस्तार का लोकार्पण किया। उन्होंने इस चिकित्सालय में पेन क्लिनिक का भी शुभारंभ किया।सराफ ने बताया कि राजकीय जयपुरिया चिकित्सालय में प्रतिमाह 350 से अधिक प्रसव , 125 से अधिक सिजेरियन डिलीवरी एवं 50 से अधिक मेजर सर्जरी की जा रही है उन्होंने बताया कि इस चिकित्सालय में सुविधाओ का विस्तार कर यहां 2 प्रसूति कक्ष का निर्माण करवाया गया है। उन्होंने बताया कि प्रसूति कक्ष के पास ही आपातकालीन आवश्यकता पड़ने पर सुविधा के लिये ऑपरेशन कक्ष भी बनाया गया है ।

चिकित्सा मंत्री ने राजकीय जयपुरिया अस्पताल में पेन क्लिनिक की सुविधा का भी शुभारंभ किया । इसके ऑपरेशन थेटर में मिनिमम इनवेजिव तकनीक द्वारा विभिन्न बीमारियों के इलाज की सुविधाएं उपलब्ध कराई गई है। यहां कैंसर के मरीजों का दर्द दूर करने के लिए मोरफिन टैबलेट भी उपलब्ध है । उन्होंने बताया कि शीघ्र ही चिकित्सालय की आपातकालीन चिकित्सा इकाई का विस्तार किया जाएगा इसके साथ ही 50 बैग का नया पीडिया वार्ड बनाया जाएगा। कैथ लैब का कार्य इस समय प्रगति पर है।

सराफ ने बताया कि यह चिकित्सालय मात्र 150 बैड वाला सेटेलाइट चिकित्सालय था जो अब 470 बैड वाला चिकित्सालय पांच चुका है उन्होंने बताया कि आपातकालीन इकाई की वर्तमान 10 बैड की क्षमता को बढ़ाकर 20 बैड करने का कार्य चल रहा है । उन्होंने विश्वास व्यक्ति किया कि इस चिकित्सालय में चिकित्सा सुविधाएं बढ़ाने से सवाईमानसिंह चिकित्सालय पर पड़ने वाले दबाव में कमी आ सकेगी और साथ ही यहां की नजदीकी आबादी को चिकित्सा सुविधाएं अपने घर के समीप मिल सकेगी कार्यक्रम की अध्यक्षता सांसद श्री रामचरण बोहरा ने की।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार चिकित्सा सुविधाओं को बढ़ाने के लिए संकल्पबद्ध होकर कार्य कर रही है । उन्होंने विश्वास व्यक्ति किया कि जयपुरिया चिकित्सालय निकट भविष्य में एसएमएस हॉस्पिटल के समकक्ष सभी प्रकार की स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने में सफल सिद्ध होगा विशिष्ट अतिथि एवं महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किए । हॉस्पिटल अधीक्षक डॉ. रेखा सिंह ने प्रारंभ में चिकित्सालय में चल रहे नए निर्माण कार्यो के बारे में जानकारी दी उन्होंने बताया कि चिकित्सालय के आउटडोर एवं इंडोर में निरंतर वृद्धि होती जा रही है।

कोई जवाब दें