जयपुर। विधि विरुद्ध कार्य करने के अपराध में 3० मार्च, 2०14 से न्यायिक हिरासत में जेल में बंद आतंकी संगठन इण्डियन मुजाहिदीन से जुड़े हुए अब्दुल माजिद उर्फ अद्दास से व्यक्तिगत रूप से हाथ मिला कर व गले मिलकर हज यात्रा पर जाने के लिए माता-पिता की ओर से पेश किए गए प्रार्थना पत्र को अदालत ने शुक्रवार को खारिज कर दिया। जमींदारान मौहल्ला-सीकर निवासी एवं बंदी माजिद के पिता और माता नूरबानों ने डीजे जयपुर मेट्रो हेमन्त जैन की कोर्ट में 1० अगस्त को प्रार्थना पत्र पेश कर कहा कि वे 17 अगस्त से 3 अक्टूबर तक हजयात्रा पर जा रहे हैं। हज पर जाने से पहले 15 अगस्त तक बेटे को एक बार छूने व गले मिलने की अनुमति दी जाए।

मानवीय दृष्टिकोण के आधार पर भी गले मिलने की व हाथ मिलाने की इजाजत दिया जाना आवश्यक व न्याय संगत है। दम्पती का यह भी कहना था कि जेल प्रशासन द्बारा बेटे से मुलाकात शीश्ो के पीछे से माईक के द्बारा करवाई जाती है। गौरतलब है कि एटीएस राजस्थान ने 23 मार्च, 2०14 को इस मामले में एफआईआर दर्ज कर एक दर्जन से अधिक आरोपियों के खिलाफ चालान पेश कर चुकी है सभी आरोपी जेल में हैं।

LEAVE A REPLY