Rajasthan President's Commission on Farmers Proksanvr Lal Jat died

– सांसद प्रो. सांवरलाल जाट बने किसान आयोग के अध्यक्ष
जयपुर। स्वास्थ्य ठीक नहीं होने की वजह से केन्द्रीय जलसंसाधान राज्यमंत्री पद से हटाए गए अजमेर के सांसद डॉ. प्रो. सांवरलाल जाट को राजस्थान राज्य किसान आयोग का अध्यक्ष बनाया गया है। जब से उनका केन्द्रीय राज्यमंत्री पद गया है, तभी से उनके किसी बोर्ड में नियुक्त करने की कवायद चल रही थी। हालांकि राजनीतिक गलियारों में यह भी चर्चा हो रही है कि जब स्वास्थ्य ठीक नहीं होने की वजह से केन्द्र सरकार ने इन्हें मंत्री पद से हटा दिया था तो ऐसे हालात (स्वास्थ्य ठीक नहीं होना) में राजस्थान में किसान आयोग का अध्यक्ष बनाना ठीक नहीं है। आयोग अध्यक्ष तो बन गए, लेकिन समय नहीं दे पाने के कारण जिस उद्देश्य के लिए आयोग बना है, वे कार्य पूरे नहीं हो सकेंगे। इसकी वजह किसी अनुभवी विधायक या नेता को यह पद दिया जाता तो उसका मैसेज भी जाता और आयोग काम भी ठीक करता है। यह भी चर्चा है कि ऐसे ही पहले भी दो बार विधायकी का चुनाव हार चुके एक नेता तो बोर्ड चैयरमेन तो बना दिया, लेकिन वे भी स्वास्थ्य कारणों से पूरा समय नहीं दे पा रहे हैं अपने विभाग को।
– राज्य के बोर्ड में चैयरमेनशिप का पहला मामला
किसी सांसद को राज्य के बोर्ड में अध्यक्ष नियुक्त करने का यह पहला मामला है। ऐसे में इनकी नियुक्ति के लिए केन्द्र सरकार से विशेष अनुमति ली गई है। किसी तरह का लाभ नहीं देने की शर्त पर यह अनुमति दी गई है। लाभ का पद नहीं होने के कारण प्रो.जाट को वेतन-भत्ते नहीं मिलेंगे, हालांकि राजकीय आवास, वाहन, ठहरने आदि सुविधाएं सरकार के स्तर पर होगी। जो केबिनेट मंत्री की सुविधाएं होती है, वैसी ही सुविधाएं प्रो.जाट को मिलेंगी। इस नियुक्ति के बाद प्रो. जाट ने इमुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे का आभार जताया है। प्रो. जाट की नियुक्ति तीन साल के लिए की गई है।

कोई जवाब दें